Monday, 21 December 2015

समर्थ व्यक्ति की एक गलती सम्पूर्ण समाज के लिए दुःख दायी है

  आज  समाज  में  अशान्ति  का  सबसे  बड़ा  कारण  यह  है  कि  व्यक्ति  को  ईश्वर  पर  विश्वास  नहीं
 रहा   ।  वह  ईश्वर  विश्वास  के  बजाय  अपने  पाले  हुए   ' गुंडों ' पर  अधिक  विश्वास  करता  है    क्योंकि  ये   तथाकथित  ' गुंडे ' उसे  गलत  ढंग  से  धन  कमाने  में  मदद  करते  हैं  ।
       जब  व्यक्ति  मेहनत  करके  ,   सही  या  गलत  किसी  भी  तरीके  से  धन  कमा  लेता  है  और  समाज  में  धन  या  पद  के  बल  पर  प्रतिष्ठा  अर्जित  कर  लेता  है  ,  तब   उसे  इन  सब   के  खोने  का  भय  सताने  लगता  है   ।  यदि  कमाई  ईमानदारी  की  हो  तो  वह   असीम   नहीं  होती  और  उसके  खोने  का   डर   भी  नहीं  होता   किन्तु     अनैतिक  तरीके  से   जब  कोई  सम्पति  व  प्रतिष्ठा  कमाता  है  तो  उसकी  सुरक्षा  व  समाज  में  अपना  दबदबा   बनाये  रखने  के  लिए  वह   व्यक्ति   कुछ  खास  किस्म  के  लोग  जिन्हें
 ' गुंडा '  कहते  हैं  अपने  साथ  रखता  है   ।  साथ  रहते - रहते    ये  व्यक्ति  उसके  विश्वासपात्र  बन  जाते  हैं   और  धन  कमाने  में  उसकी  मदद  करके  अपना  प्रतिशत  ले  कर   वे  भी   अमीर  हो  जाते  हैं   ।
       धन  संपन्न  हो  जाने  पर  भी  उनका  स्वाभाव  नहीं  बदलता  और  धीरे  -  धीरे    यही  तथाकथित  गुंडे   जिस  व्यक्ति  ने  उन्हें  पाला,  उसी  के      सम्मान  पर  ,  उसकी  सम्पति  पर  अपना  कब्जा  करके  उसके  गले  की  हड्डी  बन  जाते  हैं  ।  अपनी  ताकत  और  अपना  दायरा  बढ़ाकर  ये  सारे  समाज  के  लिए  नासूर  बन  जाते  हैं  ।  ऐसे  लोगों  की  भरमार  से  ही  समाज  में  अपराध  व  अशान्ति  है   ।
  यदि  व्यक्ति  ईमानदारी  और  सच्चाई  से  जीवन  व्यतीत  करे   तो  कोई  गुंडे  पालने  की  जरुरत  ही  न  पड़े    और  समाज  में  भी    शान्ति  व  सुरक्षा  रहे  । 

No comments:

Post a comment