Tuesday, 22 December 2015

अशान्ति के मूल कारण को दूर किया जाये तभी शान्ति होगी

     समाज  में  अपराध ,  अशान्ति   का  मूल  कारण  है  ---- अनैतिक  तरीके  से  धन  कमाना  |    इस  तरीके  से  धन  कमाने  में  उसका  परिवार  ,  उसके  मित्र  ,  परिचित  सभी  उसमे  जुड़े  होते  हैं   ।   शराब ,  विभिन्न  तरीके   की  नशीली  वस्तुएं ,  गोमांस  विक्रय ,  अश्लील  चित्रों  का  प्रदर्शन    आदि  अनेक  ऐसे  अनैतिक  कार्य  हैं   जिनमे  बड़ी  संख्या  में  लोग  प्रत्यक्ष  और  अप्रत्यक्ष  रूप  से  जुड़े  रहते  हैं   ।   व्यक्ति  जैसा  काम  करता  है  वैसी  ही  उसकी  मनोवृति  हो  जाती  है  ,  ऐसे  लोगों  की  आने  वाली  पीढ़ियाँ  भी  अपराधिक  मनोवृति  की  होती  हैं  ।
कोई  भी  धर्म ,  कोई  भी  संस्कृति  तभी  जीवित  रह  सकती  है    जब    समाज  का  नैतिक  पतन  करने  वाले  व्यवसायों  पर  प्रतिबन्ध  हो   ।    इन  व्यवसायों  से   राजस्व  इतना  प्राप्त  नहीं  होता  जितना  कि  समाज  में  अपराध ,  अनैतिकता  व  अशान्ति   होती  है    ।  ऐसे  व्यवसायों  की  अधिकता  के  कारण  ही  लोगों  का  दोहरा  व्यक्तित्व  हो  गया  है  ।   ऊपर  ने  सभ्रांत    और  सम्मानित  व्यक्ति  वास्तव  में  कैसा  है ,  कैसे  व्यवसायों  से   जुड़ा  है    इसे  सामान्य  व्यक्ति  नहीं  समझ  पाता   ।
अनेक  लोग  जो   ईमानदारी  से  ,  शान्ति  से  जीवन  जीना  चाहते  हैं  ,  ऐसे  लोगों  की  सच्चाई  का  ज्ञान  न  होने  के  कारण  उनकी  गिरफ्त  में  आ  जाते  हैं   ।
प्रत्येक  धर्म  ,  प्रत्येक  संस्कृति  को  इस  धरती  पर  जीवित  रहने  का  हक  है,    बुराइयों   को  दूर  कर  के   ही  शान्ति  संभव  है  । 

No comments:

Post a comment