Sunday, 6 December 2015

संसार में शान्ति के लिए सभी क्षेत्रों को मिल - जुल कर प्रयास करना होगा

  आज  प्रत्येक  मनुष्य  स्वयं  से  ही  परेशान  है  ,   व्यक्ति  के  भीतर  छुपी  काम , क्रोध ,  लोभ  और   ईर्ष्या - द्वेष   की  भावनाएं  न उसे  चैन  से  जीने   देती  है और   न  ही  समाज  को   ।  फिर  फिल्मों  के  अपराधिक  और  अश्लील  द्रश्य ,  गन्दा  साहित्य   इन  छुपी  हुई  भावनाओं  को  और  भड़का  देता  है  ।
  अश्लीलता  और  अपराध  के  चित्रण  को  कभी  भी  स्वस्थ  मनोरंजन  नहीं  कहा  जा  सकता   ।  
 जब  तक  लोगों  का  चरित्र  श्रेष्ठ  नहीं  होगा    तब  तक  शान्ति  नहीं  होगी   और  श्रेष्ठ  चरित्र  के  निर्माण  का  प्रयास   जीवन  के  आरम्भ  से  ही  करना  होगा  ।   इस  सच  को  समझना  होगा  कि   हमारे  पास  अपार  धन  सम्पदा  है     लेकिन  यदि  स्वयं  का  जीवन  और   परिवार  सुरक्षित  नहीं  है  तो  वह  सब  धन  व्यर्थ
  है    l      हमारा  प्रयास  यह  हो  कि   हमारे  पास  धन  हो  ,  अच्छा  स्वास्थ्य  हो  और  सुरक्षा  भी  हो   ताकि  उसका  उपयोग  किया  जा  सके  । ।     धन  और  स्वास्थ्य  तो  प्रयास  से  संभव  है   लेकिन  सुरक्षा   ?
  सुरक्षा  तो  तभी  संभव  है   जब  समाज  के  अन्य    लोग  भी  खुशहाल  होंगे ,   उनकी  मानसिकता  कुंठित  नहीं  होगी    ।     

No comments:

Post a comment