Monday, 28 December 2015

अशान्ति का बड़ा कारण ' मानसिक प्रदूषण ' है

पर्यावरण  प्रदूषण  की  बात  सब  करते  हैं    लेकिन  यदि  लोगों  की  मानसिकता  प्रदूषित  है   तो  समाज  में  शान्ति  नहीं  होगी   ।  संसार  में  ऐसे  अनेक  देश   हैं ,  अनेक  ऐसे  स्थान  हैं    जहाँ  बहुत  सफाई  है ,  प्रदूषण  नहीं  है ,  सारी  सुख - सुविधाएँ  हैं  ,  सड़कों  पर  कहीं  कोई  गंदगी  नहीं  है    फिर  भी  वहां  अपहरण ,  हत्याएं ,  लूट - पाट,  अनेक   अपराध  होते  हैं   ।
  अश्लील  साहित्य ,  अश्लील  फिल्में ,  निम्न  स्तर  के  विज्ञापन  ,  तस्वीरें  आदि  लोगों  की  मानसिकता  को  सबसे   ज्यादा    प्रदूषित   करती  हैं   ।   यह  सब  बार - बार   देखने  से   व्यक्ति  कुंठाग्रस्त  हो  जाता  है  ,   उन्ही  में  मन   रमने  से  वह  कोई  भी  काम  ढंग  से  नहीं  कर  पाता  ।   उसकी  कमजोरियां  उस  पर  हावी  होने  लगती  हैं    और  इस  तरह  चारित्रिक  पतन  शुरू  हो  जाता  है   ।  ऐसा  व्यक्ति  घर - बाहर  कहीं  भी  चैन  से  नहीं  रह  पाता  ।  ऐसी  ही  कुंठा  व  तनाव  की  वजह  से  विभिन्न  अपराध  होते  हैं  ।
   संसार  में  अनेक  धर्म  हैं   और  विभिन्न   धर्मों  के  अनेक   महान   धर्म  गुरु  हुए  हैं   लेकिन  किसी  ने  भी   चारित्रिक  पतन  का     समर्थन  नहीं  किया   ।
  श्रेष्ठ  चरित्र  होना ,   संयम  ,  नैतिकता  आदि  किसी  एक  संस्कृति  के  ही   गुण    नहीं  हैं ,  प्रत्येक  वह  धर्म ,  वह  संस्कृति  जो  स्वयं  को  जीवित  रखना  चाहती  है  ,   संसार  की  सिरमौर  बनना  चाहती  है   उसे  अपने   धर्म ,  अपने  समाज  के  लोगों  के  चरित्र - गठन  का  प्रयास  करना  होगा   ।
आज  सारे  संसार    को  जागने  की  जरुरत  है  ,  जब  लोगों  का  चरित्र  अच्छा  होगा ,  वे  कुंठाग्रस्त  नहीं  होंगे  तो  समाज  में  शान्ति  होगी  । 

No comments:

Post a comment