Thursday, 10 November 2016

अशान्ति का करण है -------- कर्तव्य से विमुखता

     आज  की  आपाधापी  की  जिन्दगी  में  मनुष्य  कर्म  तो  कर  रहा  है   लेकिन  उस  कर्म  में  ईमानदारी  नहीं  है   ।  चाहे  डाक्टर हो , इंजीनियर  हो  ,  शिक्षक , नेता  या  वकील, साधु - संत     कोई  भी  हो    उसका    मुख्य  उद्देश्य  अधिकाधिक  लाभ  कमाना     है  ।   इसी  कारण  ऐसे  लोग  जनता  का     शोषण  करते  हैं  उन्हें  बेवकूफ   बनाते  हैं  ।
  कर्तव्य  से  विमुखता  की  यह  स्थिति  बहुत  खतरनाक  है  ,  पूरे  समाज  की  स्थिति  ऐसी  हो  जाती  है  जैसे  वह  भंवर  में  फंसा  हो   ।   लोग  सोचते  हैं  ,  हम  गलती  कर  रहे  है  तो  क्या  हुआ  ,  हम  अपने  परिवार ,  अपने  बच्चों  को  बचा  लेंगे    लेकिन  ऐसा  होता  नहीं  है   ।
  जब  हर  व्यक्ति  दूसरे  को  बेवकूफ  बनाने  पर  आमदा  हो  तो  कोई  भी  नहीं    बच   सकता  ।  

No comments:

Post a Comment