Saturday, 26 November 2016

अशान्ति का कारण है ------ जागरूकता का अभाव

         आज  के  इस  वैज्ञानिक  युग  में   भी  लोगों  में  जागरूकता  की  कमी   है    |  मनुष्य  की  चेतना  आज  मूर्छित  हो    चुकी  है    ।   लोग  चुपचाप  अत्याचार ,  अन्याय  सहते   रहते  हैं  ,  इससे  अत्याचारियों  के  हौसले  और  बुलंद  होते  जाते  हैं  ।   विदेशी  आक्रमणकारी  आये ,  फिर  अंग्रेज  आये  जनता  उनके  अत्याचार  सहती  रही   ।   आज  यदि  अपनी  जन्म भूमि  में  ही  व्यक्ति  पीड़ित  और  शोषित  है    तो  यह  एक  प्रश्न  है  कि  इसका  दोष  किसे  दिया  जाये    ?
   यदि  अत्याचार  सहन  करने  वाले  लोग  मिल  जाएँ  तो  अत्याचारी  को  भी  उन्हें  सताने  में  आनन्द  आने  लगता  है ,  यह  भी  एक  नशा  है   ।
   अत्याचारी  मन  से  कमजोर  होता  है   ,  यदि  उसके  विरुद्ध  एक  मजबूत  संगठन  खड़ा  हो  जाये    तो  अत्याचारी  को  मैदान  छोड़कर  भागने  में  देर  नहीं  लगती    । 

No comments:

Post a Comment