Monday, 14 November 2016

संसार में अशांति का कारण है --- ईश्वरीय शक्ति को अनदेखा करना

     भौतिक  सुख - भोग   में  लिप्त  होने  के  कारण  आज  मनुष्य   ईश्वरीय  शक्ति को  ,  उसके  न्याय  को  समझ  नहीं  पा  रहा  है    ।     प्राचीन  समय  में  शरणागत  की  रक्षा  करना  शक्तिशाली  अपना  धर्म  समझते  थे  ,  किसी  के  कमजोर ,   असहाय  होने  पर   दुष्ट  आततायी से  उसकी  रक्षा  करते  थे  ।
               लेकिन  आज  के  समय   में   लोगों  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है   ,  लोग  कमजोर ,  निर्धन ,  मजबूर  को  शरण  नहीं  देते ,  उसकी  मजबूरी  का  फायदा  उठाते  हैं    और  जो  अमीर  हैं  ,  शक्तिसंपन्न  हैं  ,     जिसने  गरीबों  का  शोषण  करके ,  धोखे  और  चालबाजी  से  धन  एकत्रित  किया  है  ,    उसको  अपने  यहाँ  शरण  देंगे  ,  उसको  अपने  घर ,  अपने  क्षेत्र  में  रहने  देंगे   ।    उसके  कहने  पर  उसकी  सम्पति  को  भी  अपने  यहाँ  सुरक्षित  रख  लेंगे     l   यही  है  अशान्ति  का  सबसे  बड़ा  कारण    है  l
  बिच्छू  का  स्वभाव  डंक  मारना  है  तो  वह  संसार  के  किसी  भी  कोने  में  रहे  डंक  मारेगा  । ।   इसी  प्रकार  अपराधी  प्रवृति  का  व्यक्ति  जहाँ  भी  रहेगा  वहीँ  अशान्ति  फैलायेगा  ।
     गलत  राह  पर  चलने  वालों    और   ,  दुष्ट  प्रवृति  के    लोगों  के  साथ  मित्रता ,  उनको  अपने  घर  में  आश्रय  देना    उनके  पाप  कर्मों  के  हिस्सेदार  बनना  है  l  उनके  पाप  की  छाया  से  आसपास  का  समूचा  क्षेत्र  अशांत  होने  लगता  है   ।
   अनेक  लोग   चाहे  वे  संसार  के  किसी  भी  कोने  में  हों   विभिन्न  कारणों  से  लोगों  की  गलत  ढंग  से ,  दूसरों  का  शोषण  करके   कमाई  गई  सम्पति  को  अपने  पास  सुरक्षित  रखते  हैं  ।  दिखने  में  वह  सम्पति  है    पर   वास्तव  में  वह  गरीबों  और  दुःखियों   की  आहों  और  उनकी  हाय  की  गठरी  है   ।  उसी  से  निकलने  वाली  तरंगे  वहां  के  वातावरण  को  अशांत  करती  है   ।  ऐसे  क्षेत्रों  में  सब  कुछ  होते  हुए  भी  चैन  नहीं  होता  ।  
        महाभारत   की  एक  कथा  है ------   भगवान  श्रीकृष्ण   की    बुआ    का  पुत्र  था  '  शिशुपाल '  ।   उनको  किसी  ने  बताया  था  कि  भगवान   श्रीकृष्ण  के  हाथों  उसकी  मृत्यु  होगी  ।   अत:  वे  रोती  हुईं  कृष्णजी  के  पास  गईं  और  शिशुपाल  के  जीवन  की  भीख  मांगने  लगीं  ।   भगवान  श्रीकृष्ण  दयालु  थे  ।  उन्होंने  कहा  --- ठीक  है  ,  मैं  इसके  सौ  अपराध  क्षमा  कर  दूंगा   ।
  एक  उत्सव  में  संसार  भर  के  राजा - महाराजा  उपस्थित  थे   ।   उसमे   श्री  कृष्ण  को  प्रथम - पूज्य  बनाने  के  लिए  प्रस्ताव  किया  गया  ।  इस  पर  शिशुपाल  नाराज  हो  गया    और  श्री  कृष्ण  को  गाली  देने  लगा  ।   भागवान  मुस्कराते  रहे  और  गिनते  रहे --- एक ,  दो , तीन ,  चार ,  पांच --------- उसे  समझाते  रहे   लेकिन  वह  चुप  नहीं  हुआ  ----  नब्बे -------- निन्यानवे ,    सौ   !   भगवान  ने  उसके  सौ  अपराध  क्षमा  कर  दिए ,  सौ  पूरे  होते  ही  उनकी  अंगुली  में  सुदर्शन  चक्र  था ----- अब  भागा  शिशुपाल ------ हर  राजा  के  पास  जाता ,  मुझे  शरण  दो ,  मेरी  रक्षा  करो ,   सब  बड़े - बड़े  राजा - महाराजा   सुदर्शन  चक्र  को  प्रणाम  कर  अपनी  आँखें  नीची  कर  लेते  ।  वे  जानते  थे   कि  शिशुपाल   अपराधी  है  ,  उसे    शरण  देने  
का  मतलब  ईश्वर  के  कोप  का  भाजन  बनना  है  ।    किसी  ने  उसे  शरण  नहीं  दी   ।   उसे  अपने  अपराध  की  सजा  मिल  गई   ।  
   आज  मनुष्य    अपने  आपको  सर्व  शक्तिमान  समझता  है   ।   हम  उस  अज्ञात  शक्ति  से  डरें,  ईश्वर  के    न्याय    को  समझें    तभी  संसार  में  शान्ति  संभव  है  l 

No comments:

Post a comment