Monday, 7 November 2016

लोगों द्वारा की गई प्रशंसा से सावधान रहें

  मन  को  शांत  स्थिति  में  रखने  के  लिए  जरुरी  है  कि  प्रशंसा ,  निंदा  आदि  के  प्रति  तटस्थ  रहें   ।
   आज  के  समय  में  नि:स्वार्थ  भाव  के  लोग  बहुत  कम  हैं  ,  यदि  कोई  बहुत  प्रशंसा  करता  है  तो  चौकन्ने  होने  की  जरुरत  है  ।  प्रशंसा  करने  वाले  का     मानसिक   स्तर    क्या  है  ,    समाज  में  उसकी  कैसी  छवि  है ,  उसकी  क्या  कमजोरियां  हैं  ।  इन  सब  बातों  का  हिसाब  लगाकर   समझा  जा  सकता  है  कि  इतनी  प्रशंसा  के  पीछे  उसका  क्या  स्वार्थ  है  ?  वह  अपनी  कौन  सी  इच्छा  को  पूरा  करने  के  लिए  इतनी  तारीफ  कर  रहा  है  ।
  यदि  बेवजह  की  मुसीबतों  से  बचना  है   तो  प्रशंसा  से    अति  प्रसन्न  न  हों ,  संतुलित  रहें ,  विवेक  से  काम  लें  । 

No comments:

Post a comment