Monday, 28 November 2016

भेदभाव पूर्ण व्यवहार अशान्ति का बहुत बड़ा कारण है

   भेदभाव  किसी  भी  क्षेत्र  में  हो  ,  उससे  अशान्ति  उत्पन्न  होती  है  ------   जैसे --- पुत्र  और  पुत्री  में   लोग   भेद  करते  हैं ,  नारी  जाति  को  उपेक्षित  व  अपमानित  करते  हैं   उसका  परिणाम  समाज  में  विभिन्न  रूपों  में  दिखाई  देता  है  ।   इसी  तरह  अमीर - गरीब ,  और    ऊँच - नीच  के  भेद भाव  ने  संसार  में  युगों  से  अशान्ति  पैदा  की  है  ।   आज  के  इस  वैज्ञानिक  युग  ने  एक  और  तरीके  का   वर्गभेद  पैदा  कर  दिया  ।
  प्राचीन  समय  में  गुरुकुल  थे   जहाँ  कृष्ण  और  सुदामा  एक  साथ  शिक्षा  प्राप्त  करते  थे  ,  शिक्षा  के  स्तर  पर  अमीर - गरीब  में  भेद  नहीं  था   लेकिन  आज  के  इस  युग  में  यह  क्षेत्र  भी  इस  बुराई  से   बचा  नहीं  ।  एक  और  ऐसा  वर्ग  है   जो  शिक्षित  है  ,  जिसे  आधुनिक  संचार  क्रान्ति  के  सब  साधनों  का  ज्ञान  है ,  दूसरी  और  ऐसा  वर्ग  है ,  सुदूर   गाँव  में  रहने  वाला    जो  अंगूठा छाप  है   ।
  भेदभाव  चाहे  जितने  हों  लेकिन  रहते  सब  एक  ही  समाज  में  हैं ,   और  सब   परस्पर  निर्भर  हैं ---- एक  माला  के  मोती  की  तरह  ।
                        परस्पर  निर्भरता  को  समझ  न  पाने  के  कारण  या  अपने  अहंकार  के  कारण  दूसरे  वर्ग  को  उपेक्षित करने ,  अनदेखा  करने  के  कारण  ही  विभिन्न  प्रकार  के  अपराध  और  अशान्ति  उत्पन्न  होती  है   । 

No comments:

Post a comment