Saturday, 19 November 2016

संसार में अशान्ति का कारण है ---- मनुष्य का निर्दयता पूर्ण व्यवहार

         मशीनी  युग  में  रहने  के  कारण    मनुष्य  का  मन  भी   भावनाशून्य  हो  गया  है  l   आज  के  समय  लोग  कर्मफल  पर  विश्वास  नहीं  करते  इस  कारण  संसार  में  अन्याय  और  अत्याचार  अपनी  चरम  सीमा  पर  है   । अत्याचार ,  उत्पीड़न  सहन  करने  वालों  में  मनुष्य ,  पशु - पक्षी ,  प्रकृति  सभी  सम्मिलित  हैं  ।
          इस  पृथ्वी  पर  जितना  निर्दोष  प्राणियों  का  खून  बहेगा  ,  गरीबों  और  मजबूरों  का  शोषण  होगा  ,  उतना  ही  वातावरण  अशांत  होगा ,  प्राकृतिक  आपदाएं  होंगी  ।
 अत्याचार  और  अन्याय  इस  धरती  पर  शुरू  से  रहा  है   और  लोगों  ने  इसका  परिणाम  भी  भोगा   लेकिन   दुर्बुद्धि  के  कारण  कोई  इस  सत्य  को  स्वीकार  नहीं  करता  ।
        महाभारत  में    एक  कथा  है ---- जब  कौरव - पांडव  जुआ  खेल  रहे  थे   तब  किसी  कारण  से  दुर्योधन  के  मामा  शकुनि  को  क्रोध  आ  गया  और  उन्होंने  पासे  जोर  से  युधिष्ठिर  की   ओर    फेंके   जिससे   युधिष्ठिर  की  नाक  से  खून  बहने  लगा   ।  द्रोपदी  वहीँ  थीं ,  वे  तुरन्त  एक  प्याला  ले  आईं  l  युधिष्ठिर  की  नाक  से  गिरते  हुए  खून  को  प्याले  में  ले  लिया  ।  जब  उनसे  इसका  कारण  पूछा  गया  तो  द्रोपदी  ने  कहा  ---- '  युधिष्ठिर  के  खून  की  जितनी  बूंदे  पृथ्वी  पर  गिरेंगी  उतने  वर्ष  तक   पृथ्वी   पर  अकाल  पड़ेगा ,  प्रजा  कष्ट  से   त्राहि - त्राहि  करेगी   । '
   निर्दोष  प्राणियों  को  चाहे  वह  मनुष्य  हों  या  पशु - पक्षी --- को  सताने  से   पूरे  वातावरण  में  मनहूसियत  सी  छा  जाती  है  ।  धन - वैभव  सब  होते  हुए  भी  लोग  अशांत  व  तनाव  में  रहते  हैं  ,  ऐसे  दुःख  जीवन  में  आ  जाते  हैं  जिनकी  क्षति  पूर्ति  नहीं  हो  पाती  । 

No comments:

Post a comment