Friday, 25 November 2016

संसार में अशांति का कारण है --------- शोषण

         अहंकार  मनुष्य  का  एक  दुर्गुण  है   ।  अहंकारी  व्यक्ति  अपने  से  कमजोर   का  शोषण  करता  है  ,  इस  शोषण  के  अनेक  रूप  होते  हैं  ----   धन , पद ,  सौन्दर्य  के  मद  में   लोग  गरीबों  की ,  अपने  से  कमजोर  की  हंसी  उड़ाते  हैं ,  उनका  तिरस्कार  करते  हैं   ।  जिस  तरह  भी  संभव  हो  वो  उनका  शोषण  करते  हैं    जिससे  वो  आगे  न  बढ़  पाये  ।   जिसको  उन्होंने  दबा - कुचला  देखा ,  उसे  वे  आगे  बढ़ते  हुए ,  अपने  समकक्ष   नहीं  देख  सकते  ।   ऐसे   लोग  कमजोर  को  इतना  दबाते  हैं  कि  वो  कभी  सिर  न  उठा  सके  ।
       इस  तरह  के  व्यवहार  की  प्रतिक्रिया  होती  है  ,  कोई  संघर्ष  कर  के   आगे  बढ़  जाता  है    तो  किसी    के  मन  में  विद्रोह   की  ,  बदले  की  भावना  पैदा  हो  जाती  है   ।   यह  बदले  की  आग    भूख   व    गरीबी  से  और   बढ़  जाती  है     ।   ऐसे  ही  लोग  अपराध ,  लूटपाट,  चोरी , डकैती  की  और  बढ़  जाते  हैं  ,   अपना  क्षेत्र  बढ़ाते  जाते  हैं  और  सम्पूर्ण  समाज  के  लिए  खतरा  बन  जाते  हैं   ।    फिर  समाज  के  भी  ऐसे  लोग  जो  अनैतिक  और  गैर  कानूनी  ढ़ंग  से  पैसा  कमाते  हैं    ऐसे    अपराधी  व्यक्तियों  को  अपने  स्वार्थ  के  लिए  इस्तेमाल  करते  हैं   ।    इससे  पूरे  समाज  में  आशांति  और  अराजकता  की  स्थिति  उत्पन्न  होने   लगती    हैं   । 

No comments:

Post a comment