Tuesday, 8 November 2016

जिसके पास सद्बुद्धि है उसी के मन में शान्ति है

  भौतिक  चकाचौंध  में  मनुष्य  ने  स्वयं  अपने    मन  को  अशान्त  कर  लिया  है   ।  शान्ति  कहीं  बाहर  से  खरीदी  नहीं  जाती    यह  तो  अपने  मन  की  एक  स्थिति  है   जो  अध्यात्म  की  राह  पर  चलने  से  प्राप्त  होती  है  ।
  हम  सब  सांसारिक  प्राणी  है ,  योगी  नहीं  हैं   ।  हमें  संसार  से  भागना  भी  नहीं  है  ।  इस  संसार  में  रहते  हुए  इस  ढंग  से  जीवन  जीना  है   कि   हमारा  जीवन  सार्थक  हो  जाये  ।   जो  लोग  धन  के  पीछे  बहुत  भागते  हैं  वे  हमेशा  अशान्त  रहते  हैं  क्योंकि  भोग  की  भी  एक  सीमा  है  ।  धन  की  तीन  ही  गति  हैं  --- दान , भोग  या  नाश  ।   सुख  शान्ति  से  जीने  के  लिए  जरुरी  है   कि  अपनी  आवश्यकताओं  को  पूरा  करने  के  साथ  कुछ  धन    पुण्य   के  कार्यों  पर   खर्च  किया  जाये , गरीबों एवं  जरुरतमंदो  की  मदद  कर   अपने  लिए  धन  का  नहीं  दुआओं  का  संचय  करें  तभी  जीवन  में  शान्ति  संभव  है  ।
   लोगों  के  दिल - दिमाग  पर  धन  इस  कदर  हावी  है  कि   ईश्वर    के  लिए  पूजा - पाठ  भी  एक  व्यवसाय  बन  गया  है  ।     जब  नजर  धन  पर , चढ़ावे  पर  हो  तो  ईश्वर  मे  ध्यान  केन्द्रित  नहीं  हो  पाता,  इसलिए   कर्मकांड    का  कोई   पुण्य  नहीं  मिलता ,  मन  को  शान्ति  नहीं  मिलती ।  आज  संसार  को  सबसे  अधिक  जरुरत  सद्बुद्धि  की  है  । 

No comments:

Post a comment