Sunday, 27 November 2016

मानसिक पवित्रता जरुरी है

  आज  संसार  में   नकारात्मकता  इतनी  बढ़  गई  है  कि  हर  तरफ  हत्या ,   लूट,    डकैती , आत्महत्या  आदि  खबर   ही  सुनने  को  मिलती  हैं   ।   इसका  सम्बन्ध  किसी  विशेष  जाति   या  धर्म  से  नहीं  है   जब  किसी  समाज  में  आर्थिक  असमानता ,  गरीबी ,  शोषण  ,  उत्पीड़न , अन्याय ,  अत्याचार   जैसी  घटनायें  बढ़  जाती  हैं    तो  उनकी  प्रतिक्रिया  स्वरुप   ही   हत्या ,  लूट  आदि  घटनाएँ  बढ़  जाती  हैं   ।
  संसार    में    शान्ति  चाहिए      तो   ह्रदय  में  संवेदना  जरुरी  है    । 

No comments:

Post a comment