Wednesday, 16 November 2016

संसार में सुख - शान्ति के लिए जो ' आयु , योग्यता , धन - सम्पदा ' में बड़े हैं उन्हें आदर्श प्रस्तुत करना होगा

       आज  समाज  में  स्थिति  विपरीत  है   ।   कोई  भी  श्रेष्ठ  परम्परा  यदि  समाज  में   शुरू  करनी  है  तो  उस  परम्परा  को   जब  बड़ी  उम्र  के  व्यक्ति ,  बुद्धिजीवी  और  धन - संपन्न  व्यक्ति  अपनायेंगे  तो  अन्य  सभी  वर्गों  के  लोग  उनका  अनुसरण  करने  लगेंगे  ।
  बच्चे  अपने  माता - पिता  का  प्रतिरूप  होते  हैं  ।  यदि  पिता  का  चरित्र  श्रेष्ठ  नहीं   है  तो  सन्तान  के  श्रेष्ठ  चरित्र  की  उम्मीद  नहीं  की  जा  सकती  ।   कई  लोग  अपने  बच्चों  की  चरित्र हीनता  पर  उन्हें  कठोर  दंड  देते  हैं   ।   ऐसा  करने  से  पहले  उन्हें  अपने  जीवन  का  अवलोकन  करना  चाहिए  --- बबूल  के  पेड़  में  आम  नहीं  लगता  ।   भावी  पीढ़ी  को  श्रेष्ठ  बनाने  के  लिए  स्वयं  अच्छा  बनना  पढ़ेगा  ।
          इसी  तरह   यदि  हम  चाहते  हैं  कि  समाज  में  सुख - शान्ति  हो  ,  लोग  अपना  कर्तव्य  पालन  ईमानदारी  से  करें  ,  चोरी ,  बेईमानी   आदि  अपराध  कम  हों    तो  इसके  लिए  भी   उच्च  पदों  के   लोगों  को ,  बुद्धिजीवियों  को  और  धन - संपन्न  लोगों  को   आदर्श  प्रस्तुत  करना  होगा   ।
  स्वयं  सन्मार्ग  पर  चलकर  ही  हम  आने  वाली  पीढ़ियों  का  मार्गदर्शन  कर  सकते  हैं   ।  इस  आदर्श  के  अभाव  के  कारण   ही  परिवार  टूट  रहें  हैं  ,  समाज  में  अशांति  है  ,  किसी  को  किसी  पर  विश्वास  नहीं  है  ,  छोटे - छोटे  बच्चों  का  जीवन  भी  सुरक्षित  नहीं  है   ।    इंसानियत  को  जीवित  रख  कर  ही  सतत  विकास  सम्भव  है  ।
   

No comments:

Post a comment