Tuesday, 15 November 2016

अशान्ति को व्यक्ति स्वयं आमंत्रित करता है

   लोग  धन  को  बहुत  महत्व  देते  हैं    लेकिन  उस  धन  से  अच्छा  स्वास्थ्य ,  चिर  यौवन ,  तनाव  मुक्त  जीवन  क्यों  नहीं  खरीद  पाते  ?,,  धन - पद  में एक  नशा  होता  है  ,  इस  कारण    व्यक्ति  अपना  भला - बुरा  नहीं  सोच  पाता    ।    हम   ईश्वर    से  प्रार्थना  करें  कि  हमारा  विवेक  जाग्रत  हो  ,  हम  में  सही -  गलत  को  समझने  की  क्षमता  हो   ।  तभी  हम  सही  निर्णय  ले  सकते  हैं   ।
    रामचरित  मानस  में  लिखा  है ----  रावण  महान  विद्वान्  था  ,  बहुत  शक्तिशाली  था    लेकिन  वह  अहंकारी  था ,  उसने    परस्त्री  का  अपहरण  किया  था  ।  उसके  सगे  भाई  विभीषण  ने  उसे  लाखों  बार  समझाया  लेकिन   अपने  धन  व  पद  के  अहंकार  में   विभीषण  को  अपमानित  किया  ।   विभीषण  का  विवेक  जाग्रत  था   ।  दुष्ट  व्यक्ति  की  सोने  की  लंका  में  रहने  के  बजाय  उसने  राम  के  साथ  वन  में  रहना  उचित  समझा   ।  जिसने    गलत  राह  पर  चलने  वाले  का  साथ  दिया  वे  सब  नष्ट  हो  गए    और  विभीषण  जो  भगवन  राम  की  शरण  में  आया  उसका  राज्याभिषेक  हुआ  ।
       जीवन  की  सफलता  हमारे  विवेकपूर्ण  निर्णय  पर  निर्भर  है  ।  धन - वैभव   जीवन  के  लिए  जरुरी  है  ।      सुख - सुविधाओं  भरा  जीवन  जीते  हुए  भी  यदि  हम  निष्काम  कर्म  करते  हैं ,  सन्मार्ग  पर  चलते  हैं ,  किसी  को  कष्ट  नहीं  देते    तो  हमारी  आत्मा  ही  हमारा  पथ - प्रदर्शित  करती  है   ।   ,  

No comments:

Post a Comment