Thursday, 3 November 2016

भौतिक समृद्धि से ही शान्ति संभव नहीं है

  केवल  भौतिक  समृद्धि  से  शान्ति  सम्भव  होती  तो  संसार  के  अमीर  और  सब  सुविधाओं  से   संपन्न देशों  में  शान्ति  होती   ।  हर  जगह  तनाव , दंगे , हमले  और  प्राकृतिक  प्रकोप  हैं  ।
  भौतिक  समृद्धि  के  पीछे  बहुत  अधिक  भागने  के  कारण  मन  का  वह  कोना  खाली  रह  गया  जिसमे  करुणा,  संवेदना , सहयोग , प्रेम  आदि  भावनाएं  होती  हैं  जो   मन  को ,  आत्मा  को  सुकून  देती  हैं  ।
  इसका  एक  और  बहुत  बड़ा  कारण  है  कि  मनुष्य  का  खान - पान     ।   लोग  मांसाहार  के  पक्ष   में  अनेक  तर्क  देते  हैं ,  लेकिन  अपने  जीवन  में  लम्बे  समय  तक  मांसाहार  करने  वाला  व्यक्ति  स्वाभाव  से  क्रूर , निर्दयी  और  क्रोधी  हो  जाता  है   ,   उसे  किसी  को  मारने ,  किसी  के  द्वारा  हत्या  कराने,  शारीरिक,    मानसिक   कष्ट  देने  में    देर  नहीं  लगती    l  यह  सब  उसका  स्वाभाव  बन  जाता  है  । ।
           लेकिन  शाकाहारी  अधिकांशत:  अहिंसक  प्रवृति  के  होते  हैं   ।   वे  किसी   इनसान  तो  क्या  जानवर  को  भी  नहीं  मारते और  न  उन्हें  कोई  कष्ट  देते  हैं   ।   आजकल  ऐसे  लोग  बहुत  कम  हैं ।  संवेदनहीन  समाज  में  शान्ति  की  आशा  कैसे  की  जा  सकती  है  l
  भौतिकता  के  साथ  जब  व्यक्ति  स्वयं   में   आध्यात्मिक  तत्वों  का  समावेश  करेगा  तभी  वह  स्वयं  शान्ति  से  रह  सकेगा  और  अपने  संपर्क  में  आने  वालों  को  शान्ति  प्रदान  करेगा  ।  आध्यात्मिक  होने  का  अर्थ -- कर्मकांड  करना  नहीं  है   ।  स्वयं  के  दोषों  को  दूर  कर   सद्गुणों  की  वृद्धि  करना  ही  अध्यात्म  है  ।   प्रत्येक  व्यक्ति  आध्यात्मिक  होने  का  प्रयास  करे   तो  धीरे  - धीरे  संसार  से  क्रूरता ,   निर्दयता    और  संवेदनहीनता  की  घटनाएँ  होनी  कम  हो  जाएँगी  l 

No comments:

Post a comment