Thursday, 17 November 2016

आशांति का सबसे बड़ा कारण है ------ अपराधी का दण्ड से बच जाना

      बड़े  अपराधों  की  शुरुआत  एक  छोटे  अपराध  से  होती  है   ।   जब  एक  व्यक्ति  कोई  अपराध  करता  है  और  अपने  धन - सम्पदा , नेताओं  और  उच्च  अधिकारियों  से  पहचान ,  समाज  में  अपने  परिवार  का  उच्च  स्तर  ,  सबूतों  का  अभाव  आदि  अनेक  कारणों   से  वह  दंड  से   बच   जाता  है   ।
                  इस  बात  का  प्रभाव  केवल  उसके  जीवन  पर  ही  नहीं  पड़ता  अपितु  उससे  समूचा  समाज  प्रभावित  होता  है  ।   दंड  से  बच  जाने  पर  हजारों ,  लाखों  में  से  कोई  एक  व्यक्ति  सुधरता  है  अधिकांश  लोग  जब  एक  बार  सजा  से   बच    जाते  हैं   तो  उनकी  हिम्मत  खुल  जाती  है  फिर  वे  और  बड़े - बड़े  अपराध  करने  लगते  हैं   ।
   इसका  सबसे  नकारात्मक   प्रभाव  यह  होता  है  कि   अपराधी  का  लेबल  लग  जाने  पर   कोई  सम्मानित  नौकरी  नहीं  मिलती   इसलिए  वे  लोग  गलत  धन्धों  में  लग  जाते  हैं  ,  और  ऐसे  ही  गलत  व्यवसायों  में  आगे  बढ़कर  अधिक  धन  और  ताकत  अर्जित  कर  लेते  हैं  ।
       ऐसे  अपराधियों  की  भी  एक  श्रंखला  बन  जाती  है  ।     अनेक  लोग  जो  शराब ,  मांसाहार  ,  नशा ,  तम्बाकू ,  अश्लील  साहित्य और  कला  को  बेचना ,  देश  के  प्राकृतिक   साधनों  की  चोरी  आदि  अनेक  गैर कानूनी  धन्धों  में  लगे  रहते  हैं   वे   अनेक  लोगों  को  अपने  इन  काले  धंधों  में  जोड़  लेते  हैं   ।  कोई  मजबूरीवश  इन  धन्धों  से  जुड़ता  है ,  किसी  को  ये  लोग  फंसा  लेते  हैं  फिर  ब्लैक मेल  कर  अपने  इन  अपराधिक  कार्यों  से  जोड़े  रखते   हैं    और  कोई  जन्मजात  ही  अपराधी  होता  है   ।  इस  तरह  अपराध का  एक  बहुत  बड़ा  साम्राज्य  कायम  हो  जाता  है  ।
 आज  धन  का  बहुत   महत्व  है  ,  लोग  धनी  लोगों  का  सम्मान  करते  हैं  चाहे  उसने  वह  धन  कैसे  भी  कमाया  हो  ।   इसी  कारण  आज  समाज  में  असली  अपराधी  कौन  है  यह  जानना  बहुत  कठिन  है    ।
विज्ञानं  ने  भी  बहुत  तरक्की  कर  ली  ,   जो  लोग  अपराधी  प्रवृति  के  वे  इन  साधनों का  भी  दुरूपयोग  करते   हैं  । जो  अपराधी  प्रवृति  के  लोग  होते  हैं  वे  कायर  होते  हैं   और  पुरे  समाज  को  उत्पीड़ित  करते  हैं   ।
  आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है ---- अच्छाई  ईमानदारी  से  और  नि:स्वार्थ  भाव  से  संगठित  हो   ।  
 कहते  हैं  सत्य  में  हजार  हाथियों  का  बल  होता  है  ।  संघर्ष  चाहे  लम्बा  हो  जीत  सत्य  की  होती  है  । 

No comments:

Post a comment