Saturday, 12 November 2016

अशांति का कारण है ------ अन्धकार सघन है

    इस  संसार  में   विभिन्न  देश ,  अनेक  जातियाँ,   विभिन्न  संस्कृतियाँ  हैं   लेकिन  आज  के  इस  वैज्ञानिक  युग  में   केवल  दो  जाति  और  दो  ही  शक्ति  हैं ------ अन्धकार    और  प्रकाश   ।
    अनेक  छोटी - छोटी  इकाइयों ,  सूक्ष्म   कणों  से  मजबूती  के  साथ  मिलकर  यह  अन्धकार  बहुत  सघन  हो  गया  है  ।   इस  क्षेत्र  के  प्रमुख  अस्त्र  हैं --- नशा , मांसाहार ,  अश्लीलता , अपहरण , उत्पीड़न,  बलात्कार ,  हत्या------  अपराध  !  ।        मनुष्य ,  प्रकृति , समस्त  जीवधारी  , सबका  शोषण , उन्हें  कष्ट  देना    ही  उनके  मनोरंजन  का  साधन  है    ।
                               दूसरी  तरफ  प्रकाश  है    --- इसमें  दया ,  करुणा,  संवेदना ,  सहयोग  की  भावना  है    लेकिन  यह  प्रकाश  बिखरा  हुआ  है  ।  अन्धकार  को   पराजित  करने  के  लिए ,  उसकी  तह  तक  पहुँचने  के  लिए    तीव्र  प्रकाश  की  जरुरत  है   ।
       यह  प्रकाश   बुद्धि  और  विवेक  का  हो   l   किसी  भी  अस्त्र - शस्त्र  से    अन्धकार  को    पराजित  नहीं  किया  जा  सकता   । ।   नि:स्वार्थ  सेवा  और     अच्छी - बुरी  कैसी  भी  परिस्थिति  में  निष्काम  भाव  से ,  ईमानदारी  से   कर्तव्य  पालन  से  ही  वह  आत्मिक  शक्ति  प्राप्त   होगी   जिससे  अन्धकार  पर  विजय  प्राप्त  की  जा  सकती  है  । 

No comments:

Post a comment