Friday, 18 November 2016

मानसिक पराधीनता ही अशान्ति का कारण है

      मनुष्य  के   दुर्गुण  ही  उसकी  कमजोरी ,  उसकी  पराधीनता  के  कारण   हैं   ।   धन ,  सम्मान , पद  का  लालच ,  जीवन  की  सुरक्षा  ,   काम  वासना   आदि  मनुष्य  की  अनेक  कमजोरियां  हैं   ।  जो  अपराध  प्रवृति  के  लोग  हैं  वे   लोगों  की  इन्ही  कमजोरियों  का  फायदा  उठा  कर  उन्हें  ब्लैक मेल  करते  हैं   ।   मनुष्य  स्वयं  भी  अपनी  इन  कमजोरियों  के  कारण  दबा  हुआ  और  भयभीत  रहता  है   ।    जिन  लोगों  की   वजह  से  उसे  धन , पद  आदि  मिलता  है  ,  अपनी  कमजोरियों  को  पोषण  मिलता  है  ,  उनके  गलत  कार्यों  की   भी  वे  प्रशंसा  करते  हैं   ।  इसी  कारण    समाज  में   अपराध ,  अन्याय  बढ़ता  जाता  है  ।  प्रत्येक  व्यक्ति  सोचता  है  कि  हमारा  स्वार्थ  पूरा  हो  रहा  है  ,  हमें  क्या  लेना - देना  ।  इसी  से  समाज  में  अशांति ,  अव्यवस्था  रहती  है   ।
  जिस  समाज  के  बुद्धिजीवी   जागरूक  हों  ,   ईमानदार  हों  ,  साधु - संत  आदि  समाज  के  प्रति  अपने  दायित्व  को  समझें  तभी    शान्ति  संभव  है  ।

No comments:

Post a comment