Wednesday, 9 November 2016

विचारों में परिवर्तन जरुरी है

     समस्या  ये  है  कि  विचारों  में  परिवर्तन  कैसे  हो  ?   जो  लोग  गलत  राह  पर  चलते  हैं  ,  वे  स्वयं  को  कभी  गलत  स्वीकार  ही  नहीं  करते   ।  चोर , डाकू , भ्रष्टाचारी ,  अपराधी , पापकर्म  करने  वाले   कभी   सुधरना  ही  नहीं  चाहते  ।  एक  रास्ता  बंद  होता  है  वे  दूसरा  रास्ता  खोज  लेते  हैं  ।  धन  और  चालाकी  से  वे  कानून  से  बच  जाते  है  ।   प्रकृति  द्वारा  उन्हें  दंड  भी  मिलता  है  लेकिन   ऐसे  लोग  कभी  इस  सत्य  को  समझते  ही  नहीं  कि  ये  उनके  पापकर्मों  का  फल  है    l   वे  पापकर्म  करना  छोड़ते  ही  नहीं  l
         आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है  कि  अच्छाई  संगठित  हो    जैसे  गलत  राह  पर  चलने  वाले   बड़ी  ईमानदारी  और  मजबूती  से  संगठित  हैं   वैसे  ही  सच्चे  और  और  सन्मार्ग  पर  चलने  वाले  संगठित  हों  ।   ऐसे  अच्छे  लोगों  का  नि:स्वार्थ  संगठन ,  उनका  आत्मविश्वास ,  उनके  चेहरे  पर  इस  आत्मविश्वास  और  सच्चाई  की  चमक  ही   ऐसे  अंधकार  को  दूर  कर  सकती  है   ॥ 

No comments:

Post a comment