Saturday, 5 November 2016

ईर्ष्यालु और अहंकारी व्यक्ति समाज में अशान्ति के कारण हैं

       ईर्ष्या  और  अहंकार  में  व्यक्ति  अपने  जीवन  का  बहुमूल्य  समय  बर्बाद  करता  है  ।  अपने  अहंकार  की  तृप्ति  के  लिए  दूसरे  के  विरुद्ध  षड्यंत्र  रचना ,  उनका  हक  छीनना,  विभिन्न  तरीके  से  परेशान  करना     ,  इन्ही   नकारात्मक  कार्यों  में  ऐसे  व्यक्ति  उलझ  कर  रह  जाते  हैं   ।                                                                 समाज   में   शान्ति  के  लिए  सकारात्मक  कार्यों  का  होना  जरुरी  है  ।   सकारात्मक  कार्यों  में  व्यस्त  रहने  से  ही    बुद्धि  संतुलित  होती  है  और  वह  व्यर्थ  के  कार्यों  में  अपनी  उर्जा  नष्ट  नहीं   करता  है  । 

No comments:

Post a comment