Sunday, 13 November 2016

अशांति का कारण है ----- एकाधिकार की इच्छा

            थोड़ी  सी  भी  ताकत  किसी  के  पास  हो   चाहे  वह  धन  की  हो  या  पद  की  हो  या  किसी  की  चापलूसी  से  प्राप्त  की  गई  हो ,  ऐसी  ताकत  पाने  के  बाद  व्यक्ति  चाहता  है  कि  सब    उसकी    हुकूमत  में  रहे   ।  छोटी - छोटी  संस्थाओं  में  भी  यही  स्थिति  देखने  को  मिलती  है  ।  उनकी  हुकूमत  को  मानो ,  उनके  सही - गलत  कार्यों  में  सहयोग  करो  अन्यथा  वे  चैन  से  जीने  नहीं  देंगे  ।  बिच्छू  की  तरह  हमेशा  डंक  मारना ---- अपनी  ताकत  के  बल  पर  हक  छीनेंगे,  अपमानित  करेंगे ,  नीचा  दिखायेंगे ,  खिल्ली  करेंगे  ,  हंसी  उड़ायेंगे ,  ।  अनेक  लोग  इच्छा  से  या  मज़बूरी  से  उनकी  हुकूमत  स्वीकार  कर  लेते  हैं    लेकिन  ऐसे  लोग  भी  चैन  से  नहीं  हैं   ।  अपने  अस्तित्व  को ,  अपने  स्वाभिमान  को  खो  देने  के  बाद   धीरे - धीरे  पतन  के  गर्त  में  गिरते  जाते  हैं    ।
    उनके  इस  अहंकार  के  पीछे  वास्तव   में  किसकी  ताकत  है  यह  जानना  बहुत  कठिन  है  क्योंकि   अब  लोग  शराफत  का  मुखौटा  लगाकर  रहते  हैं   ।
  आज  के  समय  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  ---- सद्बुद्धि  है  ।  किसी  संस्था  से  या  धन  खर्च  कर  के  यह  नहीं  मिलती  ।   सद्बुद्धि  तो  केवल  ईश्वर  की  कृपा  से  मिलती  है   और  ईश्वर   की  कृपा  उन्ही  को  मिलती  है   जो  सन्मार्ग  पर  चलते  हैं ,  निष्काम  कर्म  करते  हैं  ।  मान - अपमान ,  हानि - लाभ ,  सुख - दुःख  सब  सहन  करते  हुए  अपने  कर्तव्य  का  ईमानदारी  से  पालन  करते  हैं  ।  यही  है  सफलता  का
  मार्ग    ।      आज  का  समय  कर्मयोगी  बनने  का  है   ।   

No comments:

Post a comment