Friday, 4 November 2016

आशांति का कारण ---- लोग अपने विवेक से काम नहीं लेते

     धन   का   लालच    और    लोभ   का   भूत    लोगों  के  सिर  पर  सवार  है  ।  इस  कारण  लोग  अपने  दिमाग  से  काम  नहीं  लेते  ।  जिस  व्यक्ति    के    माध्यम  से  उन्हें  धन  और  विभिन्न  सुविधाएँ  मिल  जायें   उसकी  प्रत्येक  बात  चाहे  वह  सही  हो  या  गलत  उसे  मानेंगे  ।
   अपना  विवेक ,  अपनी  बुद्धि  से  काम  न  लेने  पर   मनुष्य  का  अस्तित्व  एक  कठपुतली  जैसा ,  एक  चाबी  के  खिलौने  जैसा  हो  जाता  है   ।   वह  स्वयं  नहीं  जानता  कि  इसकी  डोर ,  इसकी  चाबी  किसके  हाथ  में  है  ।    छोटी - मोटी    सुविधाओं  और  तत्काल  लाभ  के  लालच  में  मनुष्य  अपने  अस्तित्व  को  खो  देता  है   ।   यह  खेल  '  लो  और  दो  '  ( GIVE  & TAKE )  का  है  ।  जब  जिसका  स्वार्थ  पूरा  हो  गया  तो  दूध  की  मक्खी  की  तरह  निकाल  कर  फेंक  दिया  जाता  है  ।
    इस  तरह  के  जीवन  से  मनुष्य  तनाव  में,  अशान्ति  में  जीता  है  ।  ऐसे  लोगों  की  अधिकता  है  ,  जिसका  अपना  मन  अशांत  हो  वह  अपने    चारों    ओर  भी    अशान्ति   फैलता  है   ।  

No comments:

Post a comment