Wednesday, 23 November 2016

सुख - शान्ति से जीने के लिए जीवन जीने की कला का ज्ञान जरुरी है

   इस  संसार  में  अनेक  लोग  ऐसे  हैं  जिनके  पास  जीवन  की  सब  सुख  - सुविधाएँ  हैं ,  धन - वैभव  है   लेकिन  फिर  भी  शान्ति  नहीं  है  ,  तनाव पूर्ण  जीवन  जीते  हैं  ।       अशान्त  मन  के  व्यक्ति ,  परिवार  अपने    चारों  ओर  अशांति  फैलाते    है  ,   धीरे - धीरे  अशांति  का  यह  क्षेत्र  व्यापक  हो  जाता  है   ।
       जब  कोई  भी  समाज  धन - वैभव   के    आधार  पर  लोगों  को  सम्मान  देने  लगता   हैं   तो  धन  कमाने  की  लालसा  चरम  सीमा  पर  पहुँच  जाती  है    ।   केवल  '  धन ' प्रमुख  हो  जाता  है  ,  प्रेम , संवेदना ,  करुणा,  दया ,  ईमानदारी   आदि  सद्गुण   पूरे   समाज  से  ही  लुप्त  हो  जाते  हैं   ।  सद्गुण  हीन  समाज  में  अव्यवस्था  फैल  जाती  है  ।
      भगवान  श्रीकृष्ण  ने  अपने  चरित्र  से  समाज  को  शिक्षण  दिया  कि  ' धन - वैभव '  को  नहीं  सद्गुणों  को  सम्मान  दो  ----- जब  श्रीकृष्ण  शांतिदूत  बन   कर  हस्तिनापुर  गए   कि  दुर्योधन  को  समझा  दें  कि  वह  पांडवों  को  पांच  गाँव  ही  दे ,  जिससे  युद्ध  न  हो  ।  उस  समय  उन्होंने  दुर्योधन   का  वैभवपूर्ण  आतिथ्य  अस्वीकार  कर  दिया   और  महात्मा  विदुर  के  यहाँ  का  सादा  भोजन  स्वीकार  किया  ।
  उस   समय  विदुर  जी  कहीं  बाहर  थे  ,  उनकी  पत्नी    कृष्ण जी  को  देख    प्रसन्नता  में    ऐसी  बावली  हो  गईं   कि  केले  का  गूदा  फेंकती  गईं   और  छिलका  उन्हें  खिलाती  गईं ।  भगवान  कृष्ण  वह  छिलका  खाकर  ही  तृप्त  हो  गये  ।
     दुर्योधन  सारा  जीवन  पद  और  धन   के  लिए  पांडवों  के  विरुद्ध  षड्यंत्र  करता  रहा ,  स्वयं  परेशानी  रहा ,  पांडवों  को  परेशान  किया ।   अंत  में   महाभारत  के  युद्ध  में   अपने  सब  भाई - बन्धु    सहित  उनका  अंत  हो  गया  ।  

No comments:

Post a comment