Monday, 21 November 2016

सोचने का तरीका सकारात्मक हो तभी समस्याओं का हल संभव है

       संसार  में  जितने  लोग  हैं  उतनी  ही  समस्याएं  हैं   और  ये  समस्याएं  मुख्य रूप  से  मनुष्य  के  काम , क्रोध , लोभ , मोह  और  अहंकार  से  ही  उत्पन्न  होती  है   और  इन्ही  की  वजह  से  अनेक  अपराध  होते  हैं  ,  इसके  मूल  में  मनुष्य  की  विकृत  मानसिकता  होती  है  ,  इसका  सम्बन्ध  किसी  जाति,  धर्म , वर्ग  और  देश - विदेश  से  नहीं  होता   जैसे  छोटे - छोटे  बच्चों  का  अपहरण   ,  बच्चियों   के  प्रति  अपराध , हत्याएं ,बालिका  भ्रूण  हत्या   , बलात्कार ,  भ्रष्टाचार , देश  के  साधनों  की  चोरी ,  गौ - हत्या  ,  नशे  का  व्यापार आदि  अनेक  ऐसे  अपराध  हैं   जिनके  लिए  कोई  विदेशी  उत्तरदायी  नहीं  है ,   देश  के  लोग  ही  ऐसे  जघन्य  अपराध  करते  हैं  और  समाज  में  घुल - मिलकर  रहते  हैं  ।
      ऐसी  अपराध  प्रवृति  के  लोगों  को  प्रकृति  से  दंड  भी  मिले   जैसे  बीमार  हो  जाएँ ,  कोई  बड़ी  तकलीफ  हो  जाये   तो  स्वस्थ  होने  पर  वे  सुधारते  नहीं ,  फिर  से  अपराधिक  गतिविधियों  में  जुट  जाते  हैं ,  किसी  वजह  से  उनके  धन  का  बहुत  नुकसान  हो  जाये   तो  भी  उन्हें  समझ  नहीं  आती ,  मौका  मिलते  ही  फिर  तेजी  से  गलत  तरीके  से  धन  कमाना  शुरू  कर  देते  हैं  ,  जितना  घाटा  हुआ,    भ्रष्ट   तरीकों  से  उससे  दुगुना  कमाते  हैं   ।
   यदि  लोगों  के  विचार   श्रेष्ठ    होंगे ,  लोग  चरित्रवान  होंगे  तो   विभिन्न  अपराधिक  गतिविधियाँ   स्वत:  ही  कम  हो  जायेंगी  ।  आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है  कि  बच्चे  से  लेकर  युवा , प्रौढ़ , वृद्ध  सभी  के  चरित्र  निर्माण  के  लिए   बड़े  स्तर  पर   प्रयास  हों  ।  जब  लोगों  में  ईमानदारी , कर्तव्य  पालन ,  संवेदना  आदि  सद्गुण  होंगे ,  चरित्र  श्रेष्ठ  होगा   तभी  संसार  में  शान्ति  होगी   । 

No comments:

Post a comment